Shakil Azmi Shayari In Hindi रंजिश शायरी शकील आजमी - Shayariki

Top Hindi Blog For Shayari, Ghazal And Poetry

Friday, December 20, 2019

Shakil Azmi Shayari In Hindi रंजिश शायरी शकील आजमी

Shakil Azmi Gazal Jo Ranjishe Thi Unhe Barkarar


Jo ranjishe thi unhi barkarar rahne diya
Gale mile aur dil me gubaar rahne diya

Gali ke ek mod se aawaz dekar laut aaya
Saari raat usey bekarar rahne diya

Koi khwaab dikhaya na koi gam diya usko
Uski aankhon me bas ek intizaar rahne diya

Usey bhula bhi diya aur yaad bhi rakha usko
Nashaa utaar diya aur khumaar rahne diya

जो रंजिशे थी ग़ज़ल शकील आज़मी

जो रंजिशे थी उन्हें बरकरार रहने दिया
गले मिले और दिल में गुबार रहने दिया

गली के एक मोड़ से आवाज़ देकर लौट आये
सारी रात उसे बेक़रार रहने दिया

कोई ख्वाब दिखाया ना कोई गम दिया उसको
उसकी आँखों में बस एक इंतजार रहने दिया

उसे भुला भी दिया और याद भी रखा उसको
नशा उतार दिया और खुमार रहने दिया


No comments:

Post a Comment