Tehzeeb Haafi Shayari In Hindi तहज़ीब हाफी ग़ज़ल गली से कोई भी गुज़रे - Shayariki

Top Hindi Blog For Shayari, Ghazal And Poetry

Saturday, April 27, 2019

Tehzeeb Haafi Shayari In Hindi तहज़ीब हाफी ग़ज़ल गली से कोई भी गुज़रे

तहजीब हाफी शायरी ग़ज़ल गली से कोई भी गुज़रे चौंक उठता हु 

tehzeeb haafi shayari gazal


गली से कोई भी गुज़रे तो चौंक उठता हु
नये मकान में खिड़की नहीं बनाऊंगा

मैं दुश्मनों से जंग अगर जीत भी जाऊ
तो उनकी औरते कैदी नहीं बनाऊंगा

फरेब दे कर तेरा जिस्म जीत लू लेकिन
मैं पेड़ काटके कश्ती नहीं बनाऊंगा

तुम्हे पता तो चले बे जबान चीज का दुःख
मैं अब चराग की लौ ही नहीं बनाऊंगा

मैं एक फिल्म बनाऊंगा अपने सर्वत पर
उसमे रेल की पटरी नहीं बनाऊंगा

Tehzeeb Haafi Gazal Gali Se Koi Bhi Guzre Chaunk


Gali se koi bhi guzre to chaunk uthta hu
Naye makaan me khidki nahi banaunga

Main dushmano se jang agar jeet bhi jau
To unki aurte kaidi nahi banaunga

Fareb dekar tera jism jeet lu lekin
Main ped kaant ke kashti nahi banaunga

Tumhe pata to chale be jaan cheez ka dukh
Main ab charag ki lau hi nahi banaunga

Main ek Film banaunga apne sarwat par
Usme rail ki patri nahi banaunga

No comments:

Post a Comment