Altaf Ziya Gazal Charag Kya Hawa Kya Mujkhe Nahi Maloom - Shayariki

Top Hindi Blog For Shayari, Ghazal And Poetry

Friday, March 1, 2019

Altaf Ziya Gazal Charag Kya Hawa Kya Mujkhe Nahi Maloom

अल्ताफ जिया-जला है कौन बुझा क्या मुझे नहीं मालूम


altaf ziya gazal

जला है कौन बुझा क्या मुझे नहीं मालूम
चराग क्या हवा क्या मुझे नहीं मालूम

वो रास्ते में मुझे छोड़ तो गया लेकिन
फिर उसके बाद हुआ क्या मुझे नहीं मालूम

यही नजात का रास्ता था और सुल्ह का भी
मैं चुप था उसने कहा क्या मुझे नहीं मालूम

जो रोग मुझको लगा है वो इश्क है शायद
मगर है इसकी दवा क्या मुझे नहीं मालूम

मेरा नसीब के मुझको मिली है दौलते दर्द
अब उसके पास बचा क्या मुझे नहीं मालूम

Altaf Ziya Gazal - Jala Hai Kaun Bujha Kya Nahi Maloom

Jala kaun bujha kya mujhe nahi maloom
Charag kya hawa kya mujhe nahi maloom

Wo rsaate me mujhe chod to gaya lekin
Phir uske baad huaa kya mujhe nahi maloom

Yahi najaat ka rasta tha aur sulah ka bhi
Mai chup tha usne kaha kya mujhe nahi maloom

Jo rog mujhko laga hai wo ishq hai shayad
Magar hai iski dawa kya mujhe nahi maloom

Mera naseeb ke mujhko mili hai daulate dard
Ab uske paas bacha kya mujhe nahi maloom

No comments:

Post a Comment