Ek Duje Ki Har Shakhs Khata Gazal By Mureed Baqir Ansari - Shayariki

Top Hindi Blog For Shayari, Ghazal And Poetry

Saturday, January 26, 2019

Ek Duje Ki Har Shakhs Khata Gazal By Mureed Baqir Ansari

पत झड में बहारो की ग़ज़ल - मुरीद बाकिर अन्सारी

Mureed Baqir Ansari Gazal


पत झड में बहारों की फिजा ढूंड रहा है
पागल है जो दुनिया में वफ़ा ढूंड रहा है

खुद अपने ही हाथों से वो घर अपना जलाकर
अब सर को छुपाने की जगह ढूंड रहा है

कल रात को ये शख्स ज़िया (रौशनी) बाँट रहा था
क्यों दिन के उजाले में दिया ढूंड रहा है

शायद के अभी उसपे जवाल आया हुआ है
जुगनू जो अँधेरे में ज़िया ढूंड रहा है

कहते है की हर जा पे ही मौजूद खुदा है
ये सुनके वो पत्थर में खुदा ढूंड रहा है

उसको तो कभी मुझसे मोहब्बत ही नहीं थी
क्यों आज वो फिर मेरा पता ढूंड रहा है

किस शहरे मुनाफ़िक़ में तुम आगये बाकिर
एक दूजे की हर शख्स खता ढूंड रहा है


Har Shakhs Khata Dhund Raha Gazal By Mureed Baqir Ansari 


Pat jhad me baharon ki fiza dhund raha hai
Pagal hai jo duniya me wafa dhund raha hai

Khud apne hi haathon se wo ghar apna jalakar
Ab sar ko chupane ki jagah dhund raha hai

Kal raat ko ye shakhs ziya (raushni) baant raha tha
Kyu din ke ujaale me diya dhund raha hai

Shayad ke abhi us pe jawaal aaya hua hai
Jugnu jo andhere me ziya dhund raha hai

Kahte hai ki har jaa pe hi maujud khuda hai
Ye sunke wo patthar me khuda dhund raha hai

Usko to kabhi mujhse mohabbat hi nahi thi
Kyu aaj wo phir mera pata dhund raha hai

Kis shahar munafik me ye tum aagaye baqir
Ek duje ki har shakhs khata dhund raha hai

No comments:

Post a Comment