Munawwar Rana - Jism Ka Barson Purana Yeh Khandar Gir Jayenga - Shayariki

Top Hindi Blog For Shayari, Ghazal And Poetry

Sunday, December 9, 2018

Munawwar Rana - Jism Ka Barson Purana Yeh Khandar Gir Jayenga

मुनव्वर राना - जिस्म का ये बरसों पुराना खंडर गिर जायेंगा

munawwar rana gazal


जिस्म का बरसों पुराना ये खंडर गिर जायेंगा
आँधियों का जोर कहता है शजर गिर जायेंगा

तवक्कों से ज्यादा हम सख्त जां साबित हुये
वो समझता था की पत्थर से समर गिर जायेंगा

मुनासिब है की अब तुम कांटो को दामन सोंप दो
खुद फूल तो किसी दिन सूखकर गिर जायेंगा

मेरी गुड़ियाँ सी बहन को ख़ुदकुशी करना पड़ी
क्या खबर थी मेरा दोस्त इस क़दर गिर जायेंगा

इसीलिए मैंने बजुर्गो की ज़मीन छोड़ दी
मेरा घर जिस दिन बसेंगा तेरा घर गिर जायेंगा

Munawwar Rana-Jism Ka Purana Yeh Khandar Gir Jayenga

Jism ka barson purana ye khandar gir jayenga
Aandhiyon ka jor kahta hai shajar gir jayenga

Tawakko se jyada ham sakht jaan sabit huye
Wo samajhta tha ki patthar se samar gir jayenga

Munasib hai ki ab yum kaanto ko daman sonp do
Khud Phool to kisi din sookh kar gir jayenga

Meri gudiyan si bahan ko khudkushi karna padi
Kya khabar thi mera Dost is qadar gir jayenga

Isiliye maine bujurgo ki zameen chod di

No comments:

Post a Comment