Munawwar Rana Shayari - दश्तो सहरा में कभी उजड़े हुये खंडर में रहना - Shayariki

Top Hindi Blog For Shayari, Ghazal And Poetry

Friday, December 14, 2018

Munawwar Rana Shayari - दश्तो सहरा में कभी उजड़े हुये खंडर में रहना

Munawwar Rana - Dashto Sahra Me Kabhi Ujde Huye Khandar Me Rahna

munawwar rana shayari


Dashto sahra me kabhi ujde huye khandar me rahna
Umra bhar kaun chahenga safar me rahna

Aye khuda phool se bachho ki hifazat karna
Muflisi chahti hai mere ghar me rahna

Isliye baithi hai daheleej par bahan
Phal nahi chahte umra bhar shajar me rahna

Muddato baad koi shakhs hai aane wala
Ae mere aansuon tum deed e tar me rahna

Kisko yah fikra ki halaat kaha aa pahunche
Log to chahte hai khabar me rahna

Maut lagti hai mujhe apne makaan ki tarah
Zindagi jaise kisi aur ke ghar me rahna

मुनव्वर राना - दश्तो सहरा में कभी उजड़े हुये खंडर में रहना

दश्तो सहरा में कभी उजड़े हुये खंडर में रहना
उम्र भर कौन चाहेंगा सफ़र में रहना

ऐ खुदा फूल से बच्चो की हिफाज़त करना
मुफलिसी चाह रही है मेरे घर में रहना

इसलिये बैठी है दहलीज पर बहन
फल नहीं चाहते ता उम्र शजर में रहना

मुद्दतो बाद कोई शख्स है आने वाला
ऐ मेरे आंसुओं तुम दीद-ए-तर में रहना

किस को यह फ़िक्र की हालात कहा आ पहुंचे
लोग तो चाहते है सिर्फ खबर में रहना

मौत लगती है मुझे अपने मकां की तरह

No comments:

Post a Comment