Munawwar Rana Ghazal - तू हर परिंदे को छत पर उतार लेता है - Shayariki

Top Hindi Blog For Shayari, Ghazal And Poetry

Monday, October 15, 2018

Munawwar Rana Ghazal - तू हर परिंदे को छत पर उतार लेता है

मुनव्वर राना - तू हर परिन्दे को छत पर उतार लेता है

munawwar rana gazal
Munawwar rana-Tu har parinde ko


तु हर परिन्दे को छत पर उतार लेता है
 ये शौक़ तो  जेवर उतार लेता है

मैं आसमां की बुलंदी पर कई बार पहुंचा
मेरा नसीब जमीन पर उतार लेता है

अमीरे शहर की हमदर्दियों से बच के रहो
ये सर से बोझ नहीं सर उतार लेता है

उसी को मिलता है एजाज भी ज़माने में
बहन के सर से जो चादर उतार लेता है

हाथ उठा है तो फिर वार भी ज़रूरी है
की सांप आँखों में मंजर उतार लेता है

Munawwar Rana - Tu Har Parinde Ko Chat Par Utaar Leta Hai

Tu har parinde ko chat par utaar leta hai
Ye Shauq to Jewar utaar leta hai

Main aasmaan ki bulandi par kai baar pahuncha
Mera naseeb zameen par utaar leta hai

Amir e shahar ki hamdardiyon se bach ke raho
Ye sar se bojh nahi sar utaar leta hai

Usi ko milta hai aijaaz bhi jamane me
Bahan ke sar se jo chadar utaar leta hai

Haath ytha hai to phir waar bhi zaruri hai
Ki saanp aankhon me manjar utaar leta hai

No comments:

Post a Comment